विद्यार्थी परिषद ने पीजी कॉलेज में लगाया छात्र सहायता शिविर...

विद्यार्थी परिषद ने पीजी कॉलेज में लगाया छात्र सहायता शिविर...


दमोह - अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद महाकोशल प्रांत दमोह इकाई द्वारा स्थानीय शासकीय ज्ञानचंद श्रीवास्तव स्नातकोत्तर महाविद्यालय में छात्रों की सहायता के लिए छात्र सहायता केंद्र का आयोजन गया। जिसमे नगर मंत्री राहुल कुमार ने बताया कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छात्र हित के साथ-साथ राष्ट्रीय हित में भी कार्य करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा छात्र संगठन है। जो निरंतर छात्रों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयासरत हैं। 

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने कॉलेज कैम्पस में छात्र सहायता शिविर का आयोजन किया गया। ताकि छात्रों को किसी भी प्रकार की कठिनाईयों का सामना न करना पड़े। छात्रों की सुविधा के लिए कार्यकर्ता सदैव प्रयास करते हैं। कि कोई भी छात्र किसी भी प्रकार की समस्या परिसर में महसूस न करें। जिसमें प्रमुख रूप से उपस्थित महाकोशल प्रांत के प्रांत सहमंत्री एवं जिला संघठन मंत्री आदित्य बरमैया, नगर महाविद्यालय प्रमुख बसन्त राजपूत, नगर स्टडी सर्कल आदर्श मिश्रा आदि बड़ी संख्या में छात्र छात्राओं की मौजूदगी रही।


प्रमोद विश्वकर्मा बने भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिलाध्यक्ष...


दमोह - भारतीय जनता पार्टी मध्यप्रदेश के प्रदेशाध्यक्ष व सांसद विष्णु दत्त शर्मा एवं भाजपा जिला अध्यक्ष एड. प्रीतम सिंह लोधी की सहमति से भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग मोर्चा मध्यप्रदेश के प्रदेशाध्यक्ष भगत सिंह कुशवाहा ने प्रमोद विश्वकर्मा को पिछड़ा वर्ग मोर्चा दमोह का जिला अध्यक्ष घोषित किया है। प्रमोद विश्वकर्मा की नियुक्ति पर भाजपा कार्यालय के बाहर आतिशबाजी कर शुभचिंतकों के द्वारा मालाएं पहनाकर स्वागत सत्कार किया गया। 

साथ ही बैंड बाजे बजाकर हर्ष व्यक्त किया। इस दौरान मुख्य रूप से भाजपा जिला अध्यक्ष प्रीतम सिंह लोधी, सतीश तिवारी, पवन तिवारी, आलोक अहिरवार, संभव सिंघई, रामेश्वर अहिरवार, आलोक मुखरया, अभिषेक सोनी, रिंकू गोस्वामी, राघवेंद्र कुशवाहा, भागीरथ पटेल, कपिल शुक्ला, जमुना चौबे सहित सभी जिला पदाधिकारियों ने हर्ष व्यक्त करते हुए अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की है।


शहर के भूमिगत मुददों को लेकर एकता परिषद ने विधायक से किया संवाद...


दमोह - जिले भर के भूमि एवं आजीविका के विषम मुद्दों को लेकर एकता परिषद के भूमि अधिकार संघर्ष मोर्चा द्वारा विधायक अजय टंडन के दमोह कार्यालय में सभी ब्लॉकों के सक्रिय एवं जुझारू मुखिया साथियों की बैठक का आयोजन कर संवाद एवं संम्पर्क किया गया। इस आयोजन मे इंका नेता एड- नितिन मिश्रा की विशेष उपस्तिथि एवं भूमिका रही.इस संबंध में एकता परिषद के पूर्व राज्य समन्वयक एवं मुखिया बैठक आयोजन के सूत्रधार सुजात खान, भूमि अधिकार संघर्ष मोर्चा के जिला अध्यक्ष शिवलाल आदिवासी, सचिव बलराम पटेल, कोषाध्यक्ष रक्कू आदिवासी, पूर्व कार्यकर्ता अयोध्या प्रसाद, भूपेंद्र सिंह ने बताया की ग्रामीण क्षेत्र घने जंगल पहाड़ी में रहने वाले आदिवासी एवं वन्य निवासी भाई वर्तमान में वन अधिकार कानून के प्रभावी एवं सक्रिय क्रियान्वयन ना होने एवं एमपी वन मित्र पोर्टल में दर्ज दावों का ठीक से आदिम जाति कल्याण विभाग दमोह द्वारा निराकरण ना करने के चलते बेहद परेशान हैं। 


साथ ही पूर्व में वनाधिकार कानून के तहत वितरित त्रृटि पूर्ण वन पत्रों मे सुधार ना होने के कारण आदिवासियों को पन्ना टाइगर रिजर्व प्रबंधन एवं वन विभाग द्वारा बेदखल कर आए दिन बेवजह परेशान कर बेदखल किया जा रहा है। इसके अलावा राजस्व भूमि चरनोई भूमि पर वर्षों से काबिज भूमिहीन, दलित, आदिवासियों को ना ही पट्टे दिए जा रहे हैं। बल्कि उनकी वर्षों से काबिज जमीन राजस्व रिकॉर्ड में हेराफेरी कर छीनने का प्रयास जिले में किया जा रहा है, उनकी भूमि पर नर्सरी लगाई जा रही है। इन्हीं मुद्दों को लेकर विधायक अजय टंडन भैया जी के साथ दमोह जिले के हटा, पटेरा, दमोह तेंदूखेड़ा,जबेरा, बटियागढ़ इत्यादि ब्लाकों के जवाबदार मुखियाओं की बैठक का आयोजन कर संवाद एवं संपर्क किया गया। विधायक अजय टण्न जी ने इन सभी मुद्दों को लेकर जिला शासन प्रशासन के साथ शीघ्र समन्वय बैठक कराने का आश्वासन दिया.साथ ही कहा कि जो मुद्दे जिला स्तर पर हल हो सकते हैं उन्हें हल कराया जाएगा. साथ ही नीतिगत मुद्दे विधानसभा के पटल पर भी रखेंगे एवं जरूरत पड़ने पर भूमि के मुद्दे पर वंचितों के लिए आंदोलन भी करने के लिए हम तैयार हैं. इस मौके पर एकता परिषद भूमि अधिकार संघर्ष मोर्चा के परशु आदिवासी, सुंदर आदिवासी, कमला आदिवासी सहित अनेक मुखिया साथी बैठक में मौजूद रहे।


हिन्दी लेखिका संघ की मासिक काव्यगोष्ठी सम्पन्न...


दमोह - सरस्वती कन्या विद्यालय के सभा कक्ष में डॉ.प्रेमलता नीलम के आयोजकत्व में हिन्दी लेखिका संघ दमोह की मासिक काव्यगोष्ठी सम्पन्न हुई। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि गीता त्रिवेदी, विशिष्ट अतिथि धारा धगट, अध्यक्ष पुष्पा चिले थीं। कार्यक्रम के प्रथम चरण में संस्था अध्यक्ष ने वार्षिक कार्यक्रम एवं स्मारिका “सुरम्या“के विषय में जानकारी दी और बताया कि इस वर्ष सुरम्या मध्यप्रदेश की प्रसिद्ध कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान पर केन्द्रीय होगी। दूसरे चरण में सरस काव्यगोष्ठी हुई। पुष्पा चिले ने पढा कहाँ से पाते शतदल कमल की जड को तुम, मेरी गहराइयों के तल को भी न छू पाये। डॉ नीलम ने पढा कभी कभी मन भर आये, सुधि सावन जब घिर जाये। आराधना राय ने पढा झांसी की रानी थी वह उत्साह था उन धमनियों में। प्रेमलता उपाध्याय ने पढा है शिव की महिमा अति पावन रोग सभी मिट जायें हमारे। भावना शिवहरे ने पढा आज दूषित पान सहारा, जब दूषित लग सोच खोटी। संगीता पान्डे ने पढा चाहेंगे तुझे पर कभी रुसवा न करेगे। डॉ.इंद्रजीत कौर ने पढा ऐसा नहीं कि दर्द मुझ तक आया नहीं, हौसला है मेरा जो दिल कुम्हलाया नहीं। क्षत्राणी थी मर्दानी थी वह भारत की नारी थी। कमलेश शुक्ला ने पढा माँ अपना दर्द अपने बच्चों से छुपा लेती है। अंजु सेठ ने पढा महाप्रतापी रघुकुल मणी, देख रहे सिया मुख चन्द्र की ओर। विनीता जडिया ने पढा पलना पाल झुलादऊं री अपने गोपाल जी खों। धारा धगट ने पढा मृदुल कल्पना के पंखों पर हम तुम दोनों हो आसीन, भूल जगत के कोलाहल को रच लें अपनी सृष्टि नवीन। गीता त्रिवेदी ने पढा भारत के वीरो तुम्हें करती नमन मैं, तुमसे बडा न कोई बलीदानी है। राशि धगट ने माँ पर केन्द्रित रचना का पाठ किया। कुसुम खरे ने विदाई गीत गाया। कार्यक्रम का सफल संचालन एवं आभार डॉ.प्रेमलता नीलम ने किया।

Post a Comment

Please Do Not Enter Any Span Link In The Comment Box

Previous Post Next Post
Nature
Nature Nature
loading...